देसीटून्ज़

अप्रैल 10, 2008

आदम और हव्वा : ब्लैक ब्यूटी द रीअल ब्यूटी

Filed under: आदम और हव्वा..., रूपहला सच, सामाजिक — raviratlami @ 3:17 पूर्वाह्न

Advertisements

2 टिप्पणियाँ »

  1. सही निर्णय। पर हमारे एक बुजुर्ग हमेशा अपनी पत्नी और खुद की चुटिया को निशाना बनाते हुए गाते थे -मैया कबहुँ बढ़ेगी चोटी…… और चाची हमेशा लज्जा से दोहरी हो जाती थीं।

    टिप्पणी द्वारा drdwivedi1 — अप्रैल 10, 2008 @ 3:31 पूर्वाह्न

  2. शानदार | आपका व्यकित्व बहु आयामी है

    टिप्पणी द्वारा Vivek Gupta — सितम्बर 22, 2008 @ 12:19 पूर्वाह्न


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: