देसीटून्ज़

अगस्त 21, 2007

आइए, एक हवन कराएँ

Filed under: आदम और हव्वा..., राज की नीति — raviratlami @ 6:44 पूर्वाह्न

आदम और हव्वा…

हवन और काले-जादू की राजनीति…

havan-for-manmohan.jpg

Advertisements

10 टिप्पणियाँ »

  1. कितनी बार कहा है मनमोहनजी समाचार चैनल मत देखा करो, बुरा असर पड़ता है. नाग-नागिन जादू-टोना देख देख कर क्या बड़बड़ाने लगें है.

    टिप्पणी द्वारा sanjay bengani — अगस्त 21, 2007 @ 7:50 पूर्वाह्न

  2. सही रहा

    टिप्पणी द्वारा vipul — अगस्त 21, 2007 @ 9:31 पूर्वाह्न

  3. सही है….हवन की परम्परा पुरानी है ।

    टिप्पणी द्वारा paramjitbali — अगस्त 21, 2007 @ 11:24 पूर्वाह्न

  4. हुम्म

    टिप्पणी द्वारा श्रीश शर्मा — अगस्त 21, 2007 @ 1:31 अपराह्न

  5. सच है..:)

    टिप्पणी द्वारा समीर लाल — अगस्त 21, 2007 @ 4:25 अपराह्न

  6. लगता है मनमोहन सिंह जी टी वी चैनलों के भूत बैताल और शमशान बाले प्रोग्राम ज्यादा देखते है.

    टिप्पणी द्वारा बसंत आर्य — अगस्त 21, 2007 @ 5:06 अपराह्न

  7. सामने सब के स्वीकार करता हूँ
    हिन्दी से कितना प्यार करता हूँ
    कलम है मेरी टूटी फूटी
    थोड़ी सुखी थोड़ी रुखी
    हर हिन्दी लिखने वाले का
    प्रकट आभार करता हूँ
    आप लिखते रहिए
    मैं इन्तज़ार करता हूँ ।
    NishikantWorld

    टिप्पणी द्वारा Nishikant Tiwari — सितम्बर 1, 2007 @ 10:44 पूर्वाह्न

  8. जो हो रहा है उसका क्या किया जा सकता है

    टिप्पणी द्वारा Deepak — सितम्बर 18, 2007 @ 1:16 अपराह्न

  9. mai aaj ke janration ka bare mai jana chata ho ke aaj kal man or woman ketane badal gaye hai, sab apne he liye jete hai apne liye he marte hai apne liye hi khate petae hai, deka jaye to dosro ke liye kuch bhi time nahi hai, par time hai to ladaiye jaghde ka, gaale galoch ka, maar peet ka, joor jabrdasti ka, bhashipan ka,
    ak admi itna gir gaya hai ke pucho mat, utni hi urat bhi gri hoye hai,
    sab ak dusery ko nicha deka rahe hai, samaj ko roog laga hai Bhrastachar ka,bus apnapan ka, hai manv jago, uto, deko aaj kuchhali apka daamn thame hai par us daman mai dak na lagne do, meri aap logo sa yahi prathana, (preey) hai ke aap log ak dusray sa mael melap ke tarah raho,

    apka sabak
    Aftab Ahmad
    From lUcknow

    टिप्पणी द्वारा Aftab Ahmad — अक्टूबर 19, 2007 @ 12:12 अपराह्न

  10. had ho gayi. man mohan par hawan ka koyi prabhav nahi pada jabki ab to kayi kangresiyo ne bhi havan kara dala.

    टिप्पणी द्वारा sher bahadur singh — जुलाई 21, 2011 @ 10:49 पूर्वाह्न


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: