देसीटून्ज़

फ़रवरी 20, 2007

पर, दिल दिमाग ठिकाने पर भी तो हो…

Filed under: आदम और हव्वा... — raviratlami @ 1:51 अपराह्न

आदम और हव्वा…

love.JPG

Advertisements

5 टिप्पणियाँ »

  1. 🙂 🙂

    रोज-रोज नए दम्पति कहाँ से लाते है? 🙂

    टिप्पणी द्वारा संजय बेंगाणी — फ़रवरी 21, 2007 @ 4:18 पूर्वाह्न

  2. ये तो एक मैजिक पेंट बोर्ड प्रोग्राम है जिसमें पहले से बने हुए प्यारे-प्यारे दम्पत्ति हैं. जो जम जाते हैं उन्हें कांट छांट कर यहाँ चिपका देता हूँ 🙂

    टिप्पणी द्वारा raviratlami — फ़रवरी 21, 2007 @ 4:37 पूर्वाह्न

  3. मेजिक वाला दम्पत्ति प्रोग्राम अगर मुफ्त मे हो तो क़ुप्या डौनलोड का लिंक दें। धन्यवाद

    टिप्पणी द्वारा SHUAIB — फ़रवरी 21, 2007 @ 8:20 पूर्वाह्न

  4. मुफ़्त में तो नहीं है, यह डिजिटल पेन के साथ संयुक्त रूप से आया है. वैसे यह सस्ता भी है – कोई 1400 रुपए में डिजिटल पेन के साथ मैंने इसे खरीदा था.

    टिप्पणी द्वारा raviratlami — फ़रवरी 21, 2007 @ 1:05 अपराह्न

  5. बात तो बिल्कुल चोखी है.. की प्रेम मा दिल-दिमाग ठिकाणै पर कोणी रहवै… पण लोगां ण सम्झाणॊ मुश्किल है..

    टिप्पणी द्वारा manya — फ़रवरी 21, 2007 @ 5:01 अपराह्न


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: